बड़े गोबरा के दो ठेकेदार समेत 4 को एनआईए ने हिरासत में लिया

Raipur News Today मैनपुर। ब्लॉक मुख्यालय मैनपुर से लगभग 18 किलोमीटर दूर ग्राम पंचायत बड़े गोबरा के दो ठेकेदार समेत चार लोगों के घर गुरुवार सुबह अचानक एनआईए की टीम ने दबिश दी। घर से उठाकर चारों को पुलिस थाना मैनपुर लाया गया और पूछताछ के बाद उन्हें गरियाबंद एसपी कार्यालय ले जाने की सूचना है। एनआईए ने जिन 4 व्यक्तियों के हिरासत में लिया है उनमें भूपेन्द्र ध्रुव, लखन यादव, मोहन यादव, सत्येंद्र यादव शामिल है। इनमें दो ठेकेदार बताए जा रहे हैं जो पीएम आवास के मकान का निर्माण करते हैं। उनके पास ग्रामीणों के रुपए जमा होना बताया जा रहा है।

थाने में उमड़ी ग्रामीणों की भीड़

जैसे ही मामले की जानकारी लोगों को मिली बड़ी संख्या में थाना परिसर पहुंच गए। ग्रामीणों और सूत्रों से जानकारी मिली कि दिल्ली से आई एनआईए के टीम ने हिरासत में लिए व्यक्तियों के घरों में संदूक, अलमारी को जांच की। बताया जा रहा है कि उसमें कोई सामान या राशि मिली है जिसे सादे कपड़े में पैकेट बनाकर सील किया। ग्रामीणों का कहना है कि चारों व्यक्तियों में दो भूपेंद्र ध्रुव और मोहन यादव ठेकेदार है जो पीएम आवास का निर्माण करते हैं। उन्हें बुधवार को प्रधानमंत्री आवास बनाने के लिए हितग्राहियों ने बैंक से राशि निकालकर रुपए दिए थे। रुपए लगभग 5 लाख बताए जा रहा है। चूंकि हितग्राहियों की राशि फंसी है। इस वजह से ग्रामीण चिंतित हैं और उनकी भीड़ थाने में जुट गई। ग्रामीणों ने बताया कि प्रधानमंत्री आवास हितग्राहियों के लखन यादव के चार लोगों को ले गई एनआईए : एसडीओपी मैनपुर एसडीओपी बाजीराव सिंह का कहना है कि चार लोगों को एनआईए की टीम ले गई है। किस प्रकरण में ले गई है फिलहाल साझा नहीं किया गया है। इस दौरान सीआरपीएफ, डीआरजी, लोकल पुलिस की टीम मुस्तैद रही।

ठेकेदारों के पास ग्रामीणों के पीएम आवास के पैसे

सुखवती कमार की 60 हजार, सीता बाई कमार की 60 हजार, सोनू कमार की 60 हजार, सुबेराम की 60 हजार, लछिंदर कमार की 45 हजार, सतु राम कमार 60 हजार, इतवारी बाई की 60 हजार एवं भूपेंद्र ध्रुव के पास सातों बाई कमार की 40 हजार, रामेश्वरी कमार की 40 हजार, सुकरू राम कमार की 60 हजार रुपए राशि जमा है। ग्रामीणों का कहना था कि प्रधानमंत्री आवास के रुपए लेने वाले चले जाएंगे तो उनके आवास कैसे बनेंगे।