यूरिया, पोटाश, सुपर फास्फेट और आदिम जाति सहकारी राखड़ की कमी को लेकर आक्रोश

Raipur News Today मैनपुर। अभी से ही किसानों की परेशानी खत्म होने का नाम नहीं ले रही है। फसलों की बुवाई के वक्त यूरिया के लिए भी किसान जूझ रहे हैं। यूरिया, पोटाश, सुपर फास्फेट राखड़ खाद की मांग को किसान नेता फरशु राम नेताम के नेतृत्व में दर्जनों किसान आदिम जाति सेवा सहकारी समिति शोभा कार्यालय पहुंचें । गरियाबंद जिला कलेक्टर दीपक अग्रवाल, एसडीएम मैनपुर तुलसीराम मरकाम एवं मार्केटिंग सोसायटी के प्रबंधक को यूरिया और पोटाश, सुपर फास्फेट राखड़ खाद की उपलब्धता करने की मांग की। किसान फरसू राम नेताम ने बताया कि यूरिया खाद की किल्लत के चलते निजी दुकानदार मनमानी दर से चुपके से खाद की बिक्री मांग पत्र भेजा गया है।

भीखम सिंह मरकाम, समिति प्रबंधक शोभा ने कहा कि वर्तमान में यूरिया, पोटाश, सुपर फास्फेट राखड़ की मांग किसानों की है लेकिन अभी नहीं आ रहा है। मांग पत्र भेजा गया है। आने के बाद किसानों को उपलब्ध करा दी जाएगी। समिति कार्यालय शोभा पहुंचे दर्जनों किसान लेकर जबरदस्त मारामारी मची हुई है। किसानों ने बताया कि यूरिया, पोटाश, सुपर फास्फेट राखड़ के लिए राजा पड़ाव क्षेत्र कि आदिम जाति सेवा सहकारी समिति शोभा में आकर वापस लौट जाते हैं।

किसान प्रतिदिन 10 से 15 किलोमीटर की दूरी तय कर सारे काम धाम छोड़कर भूखे प्यासे दिन भर खाद के सेंटरों पर आते है और निराश होकर लौट शाम को अपने घर चले जाते हैं। यूरिया और पोटाश, सुपर फास्फेट राखड़ खाद के लिए दुकानदारों के चक्कर काटने को विवश है। किल्लत के चलते फसलों को खाद नहीं दे पा रहे हैं। इस अवसर पर उमेश मरकाम, विजय नेताम, बीरसिंह नेताम, भगवान सिंह मरकाम, राम सिंह, चैन सिंह नेताम, मनीष, गंगाराम व कन्हैया मरकाम आदि कर रहे हैं और संबंधित विभाग मूकदर्शक बनकर बैठे हुए हैं। क्षेत्र में यूरिया खाद को मौजूद रहे।